Training

Training


प्रशिक्षण टाइम:- (सुबह 10 – शाम 5 बजे)

​* शुल्क : 5000/- रुपये – बुकिंग (2000) + क्लास के समय (3000) – नान रिफंडेबल
** ( रहना – खाना शामिल है )
​*** शिक्षण में थ्योरी और प्रैक्टिकल का सम्पूर्ण अध्याय शामिल है
**** प्रशिक्षण के बाद भी 24 x 7 सहायता

*नोट :- हम सिर्फ कार्य पर ध्यान देते हैं, दिखावे पर नहीं
(इस वेबसाईट पर इस्तेमाल की गयी सभी सामग्री (फोटो, वीडियो आदि) हमारी वास्तविक सामग्री हैं , किसी और की नहीं
​(कई लोग हमारी वेबसाईट के कंटेंट इस्तेमाल कर रहे हैं)
प्रशिक्षण के लिए आवश्यक दस्तावेज:
परिचय पत्र (आधार, वोटर या पैन कार्ड) की स्व प्रमाणित फोटो कापी – 01.
पासपोर्ट फोटो – 01

प्रशिक्षण का पाठ्यक्रम :

1. मीठे पानी में पाए जाने वाले सीपों का विवरण.
2. सीपों की आतंरिक संरचना.
3. तालाब और टंकी का निर्माण.
4. इस्तेमाल किये जाने वाले पानी का शोधन.
5. केमीकल और डिजिटल उपकरणों द्वारा पानी की प्रयोगशाला विधि से जांच और गुणवत्ता में सुधार करना.
6. सीपों के लिए चारे का निर्माण करना.
7. सर्जरी से लिए सीपों को तैयार करना.
8. सर्जरी के उपकरणों (imported व स्वदेशी) की पहचान.
9. केन्द्रक (Nucleus- imported) की पहचान और इसका निर्माण करना.
11. विन्भिन्न प्रकार के सर्जरी :-
a. Mantle cavity (डिजायनर और आधे गोल मोती).
b. Mantle tissue (छोटे, गोल और दवाइयों में इस्तेमाल होने वाले मोती).
c. Gonadal (पूर्ण गोल मोती).
12. सर्जरी के बाद की देखभाल.
13. तालाब या टंकी में विस्थापित करना.
14. तालाब और टंकी के पानी की गुणवत्ता को सुधार करना.
15. पाले हुए सीपों से मोती प्राप्त करना.
16. सीपों की हैचरी (प्रजनन).
17. महत्वपूर्ण बिंदु.
नोट : Black Pearl (काली मोती) बनाने की ट्रेनिंग देने वाली संस्थाओं के झांसे में न आयें, क्यूंकि सीप के अन्दर बनने वाले मोती का रंग, सीप की प्रजाति और वातावरण पर निर्भर करता है, सर्जरी के तरीके पर नहीं.

मीठे पानी में मोती की खेती का प्रशिक्षण

हमारी संस्था प्रत्येक शनिवार और रविवार 2 दिन का प्रशिक्षण प्रदान करती है – अगर आपके पास शनिवार और रविवार में टाइम नही है तो किसी भी दिन प्रशिक्षण दिया जा सकता है दोनों ही प्रशिक्षण में आने से २ दिन पहले सुचना देना जरूरी है. अगर अभ्यर्थी चाहे तो 3 दिन भी प्रशिक्षण कर सकते है.
छात्र – छात्राएं, किसान और नौकरीपेशा लोग भी इस खेती को कर सकते हैं

इस खेती को करने के लिए बहुत ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं होती

आप इसकी सर्जरी पार्ट टाइम में भी कर सकते है

कॉल और व्हाट्सएप्प करें किसी भी सहायता के लिए +91 8860493964

दस से बीष हजार रु लगाकर काम शुरू किया जा सकता है इसमें ना ही ज्यादा पैसे की जरूरत होती है और ही ज्यादा जगह की जरूरत होती है.

कोई भी इस मोती पालन पालन को कर सकते हैं जैसे नोकरी करने वाले, व्यवसाय करने वाले या छात्-छात्राये कर सकते हैं।

 

Pearl Farming is a shining business of India. Where initial minimum investment 20-30 thousand.
minimum 10×12 ft land area requiredthe complete entrepreneur development training.
seep (Oyster) from local rivers/ponds or we have provide.
Instruments/training we have providesale in local market or in our sale group

  • Our organization’s training has specific goals of improving one’s capability, capacity, production, performance, knowledge & skills for doing Pearl farming.During training sessions we focus on………… “Do and Understand” & “See and Remember”.We are committed to sharing our expertise and knowledge with farmers throughout the world.     
  • Objectives of training:-

    1. To provide a Pearl farming related knowledge to the farmers or clients.
    2. To import skills among the farmers/clients systematically so that they may learn quickly.
    3. To facilitate opportunities for self-employment for our clients.
    4. To enhance the livelihood of agricultural farmers.
    5. To provide technical support to farmers/client on Pearl marketing.
    6. To provide knowledge of water management.
    7. Teach how to make freshwater Pearl farming pond. And what are the minerals required for the pond management.
    8. To teach drainage management of the pond.
    9. To teach how to use the available infrastructures to make Pearl farming more easy.
    10. To teach the modern & latest techniques used in the operation of the mollusk.
    11. To teach how to insert the irritant in the shell of mollusk.
    12. To teach how to make an irritant.
    13. To teach how and where the irritant should be inserted so as to produce perfect Pearl both in quantity & quality.
    14. To provide sterilized instruments tool to the farmers/clients because each and every tools& instruments used in Pearl farming should be of proper dimension so as to produce perfect Pearls in both quality wise as well as quantity wise.
    15. To teach how to choose perfect land for producing Pearls in good quantity.
    16. To provide opportunity for domestic & international export markets for our farmers.
    17. To provide knowledge for making supplementary foods for the mollusk.
    18. To teach management of health of the mollusk in the pond.
    19. Providing fund management tactics to start Pearl farming & also teach how to mobilize money during the duration of Pearl farming.
    20. To teach how to supervise the construction of Pearl farm.
    21. We teach how to plan for the success of project.
    22. To teach how to maintain the proper temperature of the pond and maintain minerals in the soils in correct ratio.
    23. To teach modern & latest technique of pond construction to save it from floods & droughts.
    24. To teach water level management in the pond.
    25. Provides books & notes to the farmers/clients so that they remember all the points thought during the training session.
    26. To teach that how to inspect Pearl formation and at what interval of time.
    27. To teach how to select & purchase mollusk to be used in Pearl farming.
    28. To provide both practical & theoretical knowledge about Pearl farming.
    29. To give a tour of a real pond and give practical knowledge.
    30. To teach how to make laboratory.
    31. To teach practically how to do operation of mollusk.
    32. To indulge the client practically and allow them to do operation and insert irritant in the mollusks shell and also allow them to make pond during training session so that they learn more quickly and this makes the difference from any other institutes.

      Needs and importance of training :- The need & importance of training is due to the following factors:-

    1. Higher productivity: – It is essential to increase the productivity & reduce cost of production for meeting competition in market. Effective training can help to increase the productivities of farmers/clients by importing the required skills.
    2. Quality production: – If the farmers start producing good quality Pearls than the profit will automatically increase because Pearls are sold in the market according to their quality.
    3. Reduction of learning time: – Systematic training through trained instructors reduces the time of learning and grasping the knowledge about Pearl farming. If the farmer/client learn through books, internet or any other sources then they will take a longer time and even may not be able to learn the correct & latest methods of doing Pearl farming & that can result in huge loss of both money and personal image amongst the neighbors.
    4. Money security: – Trained farmers can easily handle the Pearl farming business and they are not prone to failures and therefore they earn huge money instead of losing it.
    5. Reduction of turnover and Absenteeism: – Trainers creates a feeling of confidence in minds of the farmers/clients which gives security in the minds and as a result farmer’s/client’s turnover and absenteeism rates are reduced.
    6. Technology updates: – Technology is changing at a fast pace. The farmer’s/client must learn new techniques to make use of advance technology. Thus, training should be treated as continues process to update the farmer’s/client with the new methods and procedures.
    7. Effective managements: – Training can be used as an effective tool of planning and control. It develops skill among the farmers/clients and prepares them for handling Pearl farming business. It helps in reducing the cost of supervision, wastages and farming accidents and increases the productivity and quality which are cherished goals of training.

      Training Facilities :-

    Most learned and knowledgeable trainee team in all disciplines of pearl farming is our core competency for organizing state of the art training program. Our training staff is focused on providing an individualized experience to each candidate, supporting their learning goals, and helping them achieve their farming dreams. With years of farming and teaching experience, our staff is able to convey the key skills and strategies that new farmers need to get started. The training unit of organization is well equipped with all infrastructure facilities required for organizing residential training program viz., lecture room, a.c. hotel rooms, full diet food, Demonstration fields, transportation, support staff, instrument/tool kit, course book, pond etc.We have tried our best to provide everything related to pearl farming training and we have also provided good quality food, hotel, and transportation facilities so that not a single issue could be faced by the candidates.We are giving instrument/tool kit, food and chemicals for the mollusks required during pond culture, book and C.D to take their homes so that they could start  pearl  farming as soon as they want without any obstructions.We provide both live and dead mollusks for operations to the candidates during the training sessions. 

    प्रशिक्षण का विवरण :- 

1).मीठे पानी में पाए जाने वाले सीपों का विवरण.
2). सीपों की आतंरिक संरचना.
3). तालाब और टंकी निर्माण.
4). इस्तेमाल किये जाने वाले पानी का शोधन.
5). केमीकल और डिजिटल उपकरणों द्वारा पानी की जांच करना और पानी की गुणवत्ता में सुधार करना.
6). सीपों के लिए चारे का निर्माण करना.
7). सर्जरी से लिए सीपों को तैयार करना.
8). सर्जरी के उपकरणों की पहचान.
9). केन्द्रक (Nucleus) की पहचान और इसका निर्माण करना.
10). विन्भिन्न प्रकार के सर्जरी :-
a). Mantle cavity- (डिजायनर और आधे गोल मोती).
b).  Mantle tissue- (छोटे, गोल और दवाइयों में इस्तेमाल होने वाले मोती).
c). Gonad- (पूर्ण गोल मोती).
11). सर्जरी के बाद की देखभाल.
12). तालाब या टंकी में विस्थापित करना.
13). तालाब और टंकी के पानी की गुणवत्ता को सुधार करना.
14). पाले हुए सीपों से मोती प्राप्त करना.
15). सीपों की हैचरी (प्रजनन).

  •  
  • दोस्तो मोती पालन अभी हमारे देश में नया है अभी कुछ लोग ही कर रहे  हैं  जो कि प्रारम्भ करने के लिए सुनहरा अवसर है।  हमारा भविष्य बहुत अच्छा होगा ऐसी हमें पूरी आशा है।  अभी तक चीन सबसे ज्यादा मोती सभी देशों में सप्लाई करता है जो कि  लो क्वालिटी के मोती होते हैं

दोस्तो मोती पालन को बड़े लेवल पर किया जाय तो हम सोच नही सकते उतना हम कमा सकते हैं।  जो कि विश्वास नही होता कि मोती पालन से हम इतना कमा सकते हैं।
https://youtu.be/OrPg3Q-gelk https://www.youtube.com/watch?v=AClmoWTमोती एक प्राकृतिक रत्न है जो सीप से प्राप्त होता है। भारत सहित हर देश में मोतियों की मांग बढ़ती जा रही है। अपनी  घरेलू मांग को पूरा करने के लिए  भारत अंतर्राष्ट्रीय बाजार से हर साल मोतियों की बड़ी मात्रा आयत करता है । प्राकृतिक रूप से एक मोती का निर्माण तब होता है कि जब कोई बाहरी कण जैसे रेत, कीट या कुछ और सीप के भीतर प्रवेश कर जाता है और सीप उसको बाहर नहीं निकाल पाती, जिसकी वजह से सीप को चुभन होती रहती है उस चुभन से बचने के लिए सीप उस पर चमकदार परतें चढ़ाती रहती है और वही समय के बाद मोती बन जाता है इसी आसान तरीके को हम मोती उत्पादन में इस्तेमाल किया जाता है और जिससे बनता है वह कैल्शियम कार्बोनेट होता है जो जैविक पदार्थों व पानी से बना होता है बाजार में मिलने वाले मोती नकली,प्राकृतिक या फिर उपजाए हुए हो सकते हैं नकली मोती प्लास्टिक या मोती के मिलते जुलते घटकों को मिलाकर मशीन के द्वारा इच्छित आकृति और रंग में ढाले जा  सकते हैं  प्राकृतिक मोती का केंद्र बहुत सूक्ष्म होता है और बाहरी सतह मोटी, आकार में छोटा और इसकी आकृति बराबर नहीं होती।पैदा किया हुआ मोती भी प्राकृतिक मोती की तरह ही होता है जिसे मानव हस्तक्षेप करके तैयार किया जाता है जिसमे आकार और आकृति इच्छित होती है

२  मीठा पानी के सीपों का परिचय:- भारत में मीठे पानी में पाए जानी वाली अधिकतम सीपों में मोती उत्पन्न करने की गुणवत्ता होती है, जिनमें लेमिलीडेन्स मॉर्गिनेलिस, लेमिलीडेन्स कोरियानस और पेरेशिया कोरुगाटा प्रमुख हैं और इनकी सभी उप प्रजातियां हैं
३ सीप के शरीर की रचना- सभी सीपों का शरीर लगभग एक जैसा होता है
A – मस्कुलर फुट (Muscular foot)
B – विसेरल मास  (Visceral mass)
C – मेंटल   (Mantle)
3:-  तालाब और भोजन का निर्माण करना:- तालाब (5000 सीपों के लिए)- 15 फ़ीट चौड़ा और 20 फ़ीट लम्बा और 6-7 फ़ीट गहरा तालाब बनाने के बाद 1 फ़ीट तक पानी भरें उसके बाद तालाब में 15 किलो गाय का 3-४ दिन पुराना   गोबर 500 ग्राम यूरिया, 250 ग्राम सिंगल सुपर फॉस्फेट। गोबर को पानी  घोलकर डालना है और यूरिया और फॉस्फेट को पानी 10-15 घंटे तक डाल कर रखना है उसके बाद उसको कपडे में छानकर तालाब में डालना है। उसके बाद 8-10 दिन इंतजार करना है पानी के हरे होने का जब पानी हरा हो जाए तो उसको पानी से पूरा  भरना है।  उसके बाद 1 सप्ताह और इंतजार करना है तब उसका अमोनिया चैक करना है उसके बाद सीप को तालाब में डालना है
सीपों की उपलब्धता: मीठे पानी के सीप भारत में नदी और तालाब
में पाये जाते हैं सीप का आकार 7 सेंटीमीटर कम से कम होना चाहिए जो हमारे काम के लिए उपयुक्त है

शैवाल बनाने का तरीका  सीप का  मुख्य भोजन हरा शैवाल है इसको बनाने के लिए 100 लीटर पानी में 50 ग्राम गाय का गोबर, 50 ग्राम यूरिया और 25 ग्राम सिंगल सुपर फॉस्फेट डालना है।  डालने का तरीका ऊपर बता दिया गया है। उसके 8-10 दिन के बाद पानी में हरा शैवाल बनना शुरू हो जायेगा जब शैवाल बन जाए उसको उठाकर अपने तालाब में डाल दें।
प्राकृतिक तालाब में ये मिश्रण 15 दिन के अन्तर पर डाल देना चाहिए

पानी के गुणवत्ता की जाँच और नियंत्रण:- पानी में सीपों द्वारा निष्काषित गंदगी की वजह से निम्न प्रकार के हानिकारक रसायन बढ़ जाते हैं जो सीपों के लिये जानलेवा साबित हो सकते हैं:-

कारक         मानक स्तर    उपाय
स्तर बढ़ाने के लिये चूना और घटाने के लिये विनेगर का प्रयोग करते हैं

पानी का बदलाव

डिग्री सेल्सियस
ये सभी जाँच उपकरण ऑनलाइन शॉपिंग साइट AMAZON.IN पर मिल जायेंगे

अनुकूलन अलग अलग जगहों से प्राप्त सीपों को सर्वप्रथम अपने तालाब में अनुकूलन के लिए 15-20 दिन के लिए रखें जिससे कि सीपों को आपके तालाब की अभ्यस्त हो जाएँ, और प्रतिदिन जाँच करते रहें जो सीप मर जाएँ उनको निकाल कर अलग कर दें

डिज़ाइनर न्युक्लियस बनाने का तरीका RAPID REPAIR पाउडर  में लिक्विड को मिलाकर इसे तत्काल इच्छित आकृति के डिज़ाइनर सांचे में डालकर सुखा लिया जाता है उसके बाद सांचे से निकालकर न्युक्लियस को गर्म पानी में 10-15 मिनट तक उबालना है उसके बाद सुखा कर किसी एयर टाइट बॉक्स में रख दो इसी तरीके से सांचे से आधे गोल न्युक्लियस बनाये जाते हैं

सर्जरी से पहले की देखभाल:- सर्जरी से 12-15 घण्टे पहले सीपों को तालाब से निकालकर नार्मल पानी में कम पानी के साथ रखना है जिससे कि उनकी मांसपेशियाँ ढीली हो जाएँ जिससे कि सर्जरी के दौरान सीप को खोलने में आसानी हो

डिज़ाइनर और आधे गोल मोती के लिए: इस प्रकार की सर्जरी में डिज़ाइनर और आधे गोल आकृति के न्युक्लियस को सीप को खोलकर उसके दोनों तरफ के मेंटल टिश्यू को सावधानी पूर्वक हटाकर इम्प्लांट किया जाता है उसके बाद टिश्यू को यथास्थिति कर दिया जाता है जिससे  न्युक्लियस मेंटल टिश्यू और मेंटल कैविटी के बीच स्थापित हो सके। इस प्रकार 8-12 महीने में मोती तैयार हो जाता है।

राईस पर्ल इस प्रकार की सर्जरी में एक वयस्क व स्वस्थ जीवित सीप से मेंटल रिबन को लम्बाई में काटा जाता है और उसे स्पोंज की सहायता से साफ किया जाता है तत्पश्चात उससे 2*2 MM साइज के ग्राफ्ट तैयार किये जाते हैं, ग्राफ्ट को जीवाणु रहित करने के लिए उस पर इओसिन (EOSIN) की बूंदें डाली जाती हैं।
सीप को खोलकर उसके टिश्यू में टूल की सहायता से छोटे – छोटे पॉकेट बनाये जाते हैं और तैयार ग्राफ्ट उसमे प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। इस प्रकार की सर्जरी वाले सीपों को देख रेख में ज्यादा दिनों तक रखा जाता है जिससे इनका आकार और वजन ज्यादा हो सके, इस प्रकार से प्राप्त मोती   छोटे होते हैं जिनका प्रयोग बहुत ही उच्च गुणवत्ता की अंग्रेजी दवाइयों, मोती भष्म, कैल्शियम के टेबलेट और बहुत ही उच्च कोटि के कॉस्मेटिक उत्पादों में किया जाता है

C   पूर्ण गोल मोती  इस प्रकार की सर्जरी में 4*4 MM साइज का ग्राफ्ट उपरोक्त तरीके से तैयार किया जाता है इओसिन (EOSIN) का इस्तेमाल जरुरी है सीप को खोलकर उसके GONAD (जनन अंग) में डाले जाने वाले न्युक्लियस के आकार के बराबर चीरा लगाया जाता है फिर उसके अंदर पहले ग्राफ्ट फिर न्युक्लियस उसके बाद फिर से ग्राफ्ट डाला जाता है।  इस प्रकार गोल मोती की सर्जरी  जाती है और 18-20 महीने में मोती तैयार हो जाता है अगर इन्हें पूरे जीवन काल तक रखें तो और भी उच्च गुणवत्ता का मोती प्राप्त होता है।
सीप के आकार के अनुसार न्युक्लियस का चयन करना चाहिए
सर्जरी के बाद की देखभाल और दवाइयों का इस्तेमाल

 

 

======= We Provide Training in the Following Areas ===========

Pearl Farming Training
Pearl Culture Farming Pearl Farming Training
Pearl Farming Training in India
Pearl Farming Training in UP
Pearl Farming Training in Uttar Pradesh
Pearl Farming Training in Lucknow
Pearl Farming Training in Kanpur
Pearl Farming Training in Allahabad
Pearl Farming Training in Varanasi
Pearl Farming Training in Patna
Pearl Farming Training in Bihar
​Pearl Farming Training in Rajasthan
Pearl Farming Training in​ Alwar
Pearl Farming Training in​ NCR
Pearl Farming Training in Bhopal
Pearl Farming Training in Indore
Pearl Farming Training in MP
Pearl Farming Training in Madhya Pradesh
Pearl Farming Training in Chhattisgarh
Pearl Farming Training in CG
Pearl Farming Training in Delhi
Pearl Farming Training in Gujrat
Pearl Farming Training in Punjab
Pearl Farming Training in Haryana
Pearl Farming Training in West Bengal
Pearl Farming Training in Orrissa
Pearl Farming Training in Bhubaneshwar
Pearl Farming Training in Maharashtra
Pearl Farming Training in Mumbai
Pearl Farming Training in Surat
Pearl Farming Training in Ahmedabad
Pearl Farming Training in Andhra Pradesh
Pearl Farming Training in Hyderabad
Pearl Farming Training in Tamilnadu
Pearl Farming Training in Noida
Pearl Farming Training in Gurgaon
​Pearl Culture Training in NCR
​How to start Pearl Farming in India
How to start Pearl Culture in India