10 हजार रुपए के इन्‍वेस्‍टमेंट से शुरू हो सकती है खेती

10 हजार रुपए के इन्‍वेस्‍टमेंट से शुरू हो सकती है खेती
September 26, 2017 No Comments Lates admin

मोती की खेती उसी प्रकार से की जाती है जैसे मोती प्राकृतिक रूप से तैयार होता है। यहां भी आपको सीप से ही मोती

बनाना है।

मोती की खेती करने के लिए इसे छोटे स्‍तर पर भी शुरू किया जा सकता है। इसके लिए आपको तालाब बनाना जरूरी नहीं है ।

छोटे – छोटे टैंक बनाकर भी मोती की खेती शुरू कर सकते हैं

आप 500 सीप पालकर मोती उत्‍पादन शुरू कर सकते हैं। प्रत्‍येक सीप की बाजार में कीमत 7 से 15 रुपए होती है।

इसके लिए स्‍ट्रक्‍चर सेट-अप पर 5 से 8 हजार रुपए खर्च होंगे , वाटर ट्रीटमेंट पर 1000 रुपए और 500 रुपए के इंस्‍ट्रयूमेंट्स खरीदने होंगे।

लाखों में हो सकती है कमाई

8-9 महीने बाद एक सीप से दो डिज़ाइनर मोती तैयार होता है, जिसकी बाजार में कीमत 300 रुपए से 1500 रुपए तक मिल जाती है।

बेहतर क्‍वालिटी और डिजाइनर मोती की कीमत इससे कहीं अधिक 10 हजार रुपए तक अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में मिल जाती है।

इस तरह अगर एक मोती की औसत कीमत आप 800 रुपए भी मानते हैं तो इस अवधि में लाखों रुपए कमा सकते हैं।

बीज डालने के लिए सीप की सर्जरी करनी होती है

सबसे पहले आपको इस खेती के लिए कुशल वैज्ञानिकों से प्रशिक्षण की आवश्‍यकता होती है जो हमारी संस्था के द्वारा कराया जाता है।

अपने मोतियों को खुद बेच सकते हैं

खेती के बाद उत्‍पाद को बेचना ही सबसे बड़ी बात होती है, लेकिन मोतियों के बारे में ऐसा बिल्‍कुल नहीं है।

हैदराबाद, सूरत, अहमदाबाद, मुंबई आदि बड़े शहरों में मोती के हजारों व्‍यापारी मोतियों का कारोबार करते हैं।

कई बड़ी कं‍पनियों के एजेंट देशभर में फैले होते हैं जो मोती उत्‍पादकों के संपर्क में आ जाते हैं।

इनके अलावा आप अपने मोतियों को डायरेक्‍ट भी इंटरनेट व अन्‍य माध्‍यम से बेच सकते हैं।

हमारी कंपनी के माध्‍यम से भी आप अपने मोती बेच सकते हैं।

दुनिया में 20,000 करोड़ का कारोबार है

पूरी दुनिया में इस तरह के मोतियों का कारोबार करीब 20100 करोड़ रुपए का है।

भारत में बड़ी मात्रा में मोती पैदा किए जाते हैं लेकिन, फिर भी इसे इंपोर्ट भी किया जाता है।

भारत हर साल करीब 50 करोड़ रुपए से अधिक के मोती इंपोर्ट करता है।

लेकिन, जहां तक एक्‍सपोर्ट की बात है तो मोतियों का एक्‍सपोर्ट भी भारत से 100 करोड़ रुपए से अधिक का है।

भारत से डिजाईनर मोतियों का ज्‍यादा एक्‍सपोर्ट होता है इसलिए आप अपने को इस तरफ भी मोड़ सकते हैं।

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *